Aurangabad Train Accident

हम न बचे पर शायद हमने
मौत तुम्हारी गले लगाई….
जरा सोचिये ! पल भर को कल्पना कीजिये !खुद को उस मजदूर की जगह पर रख कर देखिये!
To find more, read this

Corona Ka Asar-Hindi Poem on Corona

कोरोना का असर प्यार पर पड़ गया
और जुदाई का डर दिल में घर कर गया
इस कठिन काल में अब तो बैठे हैं घर
पर हमें इश्क़ से वो बेघर कर गया..
-By Parag Pallav Singh

Exit mobile version