Kaafi Hai | Hindi Shayari

Last updated on May 22nd, 2021 at 06:40 am

हम किसी और का थामें क्यों
जब तेरा हाथ है! काफी है..!

सारे जग से अब क्या करना
जब तेरा साथ है! काफी है..!

हम किसी और का थामें क्यों
जब तेरा हाथ है! काफी है..!

अब डरने जैसी बात नहीं
जब तेरा साथ है! काफी है..!

सब राह फतह होंगी अपनी
जब तेरा हाथ है! काफी है..!

अब कोई कहानी हो न हो
बस तेरा साथ हो! काफी है..!

अब कोई निशानी हो न हो
बस तेरा हाथ हो! काफी है..!

जब सभी सहारे अटके हों
बस तेरा साथ हो! काफी है..!

हम किसी किनारे भटके हों
बस तेरा हाथ हो! काफी है..!

©पराग पल्लव सिंह

Leave a Comment

Exit mobile version