Kahaani Ghar Ghar Kii – 1 | Latest Short Story in Hindi

हमारी एक दुकान है। आजकल लॉक डाउन है तो दुकान छोटे दरवाजे (जो कि घर के मुख्य दजवाज़े से जुड़ा हुआ है) वहाँ से चल रही है।

ऐसे में सभी घर पर बैठे हुए हैं। किंतु एक व्यक्ति है जिसे अभी भी बाहर जाना रहता है, कभी सामान लाने, या उसी बहाने घूम कर आने। वो हैं मेरे पिताश्री। जब कभी वो घर पर ऊबने लगते हैं तो बस मस्त शर्ट पेंट डाल, लगा हेलमेट, सारी चिंता छोड़ चल देते हैं बाजार की ओर। अब ऐसे में दुकानदार कौन ? या तो मेरी माताजी ! या फिर… मैं खुद।

बात कल शाम 3:30 या 4:00 बजे की है। धूप हल्की कम हुई ही थी पर तप रही थी। मैं घोड़े बेचकर सो रहा था। यकायक पापा ने अपनी निराली आवाज़ मारी, “परा……..ग”! और मैं झट से उठा। तब शायद 4:20 हो रहे थे। सब चाय पी चुके थे। मेरी बच गयी थी। मैं आया, चाय का कप उठाया और पीने लगा। तभी मम्मी कहती हैं,
“मैंने कम से कम 20 मिनट बचा दिए नींद के। ये तो 4:00 बजे से ही कह रहे थे, उठा दे! उठा दे उसे! मैंने ही चाय बनाई और बोला जाने को। इनका बस चले तो किसी को सोने ही न दें!”
उस बात से मेरी चाय का स्वाद और ज़्यादा बढ़ गया।

©पराग पल्लव सिंह


Behind the Scene:
These kind of things are happening all around us which makes our house, a home. If anyhow they are penned down and written, they convert themselves into stories. During this lockdown, there were a lot of incidents that had happened and I have written many of them. I will share more with you!.
Till then, keep reading my blogs. #StayHappy #StaySafe.

Chalte Chalte:
There is a suggestive and motivating tip to everybody who is reading out here.

This image gives me mtotivation. 
#shortstory #blogbyparag
Raaho Me Aaye Chahe pachas patthar,
Ek ek patthar uthana,
Ek ek patthar jutana..!
Banega ek din samrajya Tumhara
Bas Dhairya Se Badhte Jaana..!
I found this painting lovely with my blog

Raaho Me Aaye Chahe pachas patthar,
Ek ek patthar uthana,
Ek ek patthar jutana..!
Banega ek din samrajya Tumhara
Bas Dhairya Se Badhte Jaana..!

t

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.