Bhagwan Se Baatcheet

फलाँ हादसे में xxx मजदूरों की मौत। बस इस तरह खबर बदल रही है। न आप बदल रहे, न हालात बाद रहे और न ही हम।
पढ़िए ऐसी ही एक कविता “भगवान से बातचीत”।

Aurangabad Train Accident

हम न बचे पर शायद हमने
मौत तुम्हारी गले लगाई….
जरा सोचिये ! पल भर को कल्पना कीजिये !खुद को उस मजदूर की जगह पर रख कर देखिये!
To find more, read this

Aandhi | Hindi Poem on a Lonely Girl

इस कविता के माध्यम से समझें कि कैसे एक ही वस्तु या क्रिया हर व्यक्ति के लिए एक अलग आशय रखती है।
किसी के लिए सुखकारी , किसी के लिए साधारण ,और किसी किसी के लिए एक विषमता का रूप बनकर प्रकट होती है ये “आँधी “।